Homeभौकाल टाइटहाथियों का खौफ ऐसा कि झारखंड के एक गांव के बच्चे 6...

हाथियों का खौफ ऐसा कि झारखंड के एक गांव के बच्चे 6 महीने से नहीं जा पा रहे सरकारी स्कूल

झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के चाकुलिया में जंगली हाथियों का खौफ अब इस कदर बढ़ गया है कि हाथियों के भय से बच्चे ना तो स्कूल जा पा रहे हैं और ना आंगनबाड़ी. रंगामटिया गांव के लगभग 50 से अधिक बच्चे पिछले 6 महीने से स्कूल एवं आंगनबाड़ी केंद्र नहीं जा पा रहे हैं.

मजदूर माता-पिता डर से नहीं भेजते अकेला स्कूल

- Advertisement -

टांगासोली स्कूल की दूरी गांव से 3 किलोमीटर तथा जामडोहरी आंगनबाड़ी केंद्र की दूरी गांव से लगभग 5 किलोमीटर है. समूचा क्षेत्र घने जंगलों से घिरा है. यहां लगातार हाथियों का आना-जाना लगा रहता है. गांव में गरीब मजदूर वर्ग के लोग निवास करते हैं. कभी-कभी गांव के अभिभावक अपने साथ बच्चों को स्कूल तक ले जाते हैं और साथ लेकर वापस आते हैं जो प्रतिदिन उनके लिए संभव नहीं हो पाता. इसका कारण है कि गांव के पुरुष एवं महिलाओं को मजदूरी करने के लिए जाना पड़ता है. हाथियों के भय से अभिभावक अपने बच्चों को अकेला स्कूल नहीं छोड़ना चाहते हैं. इस परिस्थिति में रंगामटिया गांव के बच्चों का भविष्य अंधकार में डूबता चला जा रहा है.

रंगामटिया प्राथमिक विद्यालय का विलय रद्द हो

रंगामटिया गांव के ग्राम प्रधान सोमाय हेंब्रम ने बताया कि गांव में रंगामटिया प्राथमिक विद्यालय था. लगभग 5 वर्ष पहले रंगामटिया स्कूल को टांगासोली प्राथमिक विद्यालय में विलय कर दिया गया. रंगामटिया गांव से विद्यालय तक पहुंचने के लिए कोई सड़क नहीं है. जंगल के रास्ते ही लोग आना-जाना करते हैं. क्षेत्र में जंगली हाथियों का आतंक फैला हुआ है. ऐसे में छोटे-छोटे बच्चों को लेकर टांगासोली स्कूल तथा जामडोहरी स्थित आंगनबाड़ी केंद्र तक जाना संभव नहीं है. पिछले 6 महीने से बच्चे स्कूल एवं आंगनबाड़ी केंद्र नहीं जा पा रहे हैं. गांव के लगभग सभी लोगों के कृषि कार्य में व्यस्त होने के कारण बच्चों को स्कूल तक पहुंचाने वाला कोई नहीं है. उन्होंने सरकार से आग्रह करते हुए कहा कि उनके गांव के बच्चों के भविष्य को अंधकार में होने से बचाने के लिए रंगामटिया प्राथमिक विद्यालय को फिर से शुरू कर दिया जाए. रंगामटिया गांव स्थित दो टोलों में कुल मिलाकर लगभग 100 परिवार निवास करते हैं. गांव में 0 से 12 वर्ष तक के लगभग 50 बच्चे हैं. 6 वर्ष से 12 वर्ष की उम्र के बच्चों का नामांकन बड़ामारा पंचायत स्थित टांगासोली प्राथमिक विद्यालय में कराया गया है. 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों को जामडोहरी आंगनबाड़ी केंद्र जाना होता है.

गांव के आसपास चार लोगों की हाथियों ने ले ली है जान

पिछले 2 वर्षों में रंगामटिया गांव के आसपास के क्षेत्र में जंगली हाथियों ने 4 लोगों की जान ले ली है. जिस कारण क्षेत्र के लोग हमेशा हाथियों के भय से आतंकित रहते हैं. ग्रामीणों ने बताया कि पिछले 2 वर्षों में रंगामटिया गांव में 1, जुआलभांगा गांव में 2 तथा मौरबेड़ा गांव में 1 व्यक्ति की जान हाथी के हमले से जा चुकी है. ग्रामीणों के मुताबिक इस क्षेत्र में जंगली हाथी न सिर्फ रात में बल्कि दिन में भी निकल कर उत्पात मचाते हैं.

स्कूल दोबारा शुरू कराने पर होगा विचार

इस बारे में पूछे जाने पर चाकुलिया बीआरसी के प्रभारी बीपीओ प्रणव बेरा ने बताया कि अब तक स्कूल के शिक्षक एवं अभिभावकों द्वारा इस प्रकार की जानकारी विभाग को उपलब्ध नहीं कराई गई है. ऐसी जानकारी मिलने पर शिक्षा विभाग के वरीय पदाधिकारियों को मामले से अवगत कराते हुए रंगामटिया प्राथमिक विद्यालय को दोबारा शुरू कराने पर विचार किया जा सकता है.

 

 

Trending

भारतीय टीम ने दूसरे टी-20 मैच में ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हरा दिया, रोहित शर्मा बने ‘सिक्सर किंग, T20 क्रिकेट के इतिहास में...

इस मैच में टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा ने शानदार 46 रनों की नाबाद पारी खेली। रोहित ने अपने टी-20 करियर में नई...

उत्तराखंड: हल्द्वानी क्षेत्र में हुई सनसनी चोरी की घटना का कोतवाली हल्द्वानी पुलिस ने 24 घण्टे के अन्दर किया, पुलिस ने चोर को किया...

विगत दिवस चझुं तेजवानी पुत्र एस एस ० तेजवानी निवासी धर्मपाल कालोनी बरेली हल्द्वानी की लिखित तहरीर देते हुए अज्ञात चोरों द्वारा वादी के...

डियम जाने के दौरान ट्रैफिक में जब टीम इंडिया की बस फंस गई, नागपुर की बजाय सीधे हैदराबाद जाने का बन गया था प्लान.

वर्षाबाधित मैच में दो विकेट निकालते हुए भारत की जीत की स्क्रिप्ट लिखी। ऑस्ट्रेलिया से तीन मैच की टी-20 सीरीज अब 1-1 की बराबरी...

Must Read

error: Content is protected !!